परमेश्वर की सेवा बगैर उसकी मर्जी के करना